नववर्ष 

माना यह अपना त्यौहार नही

पर ऐसी तंगदिली भी जरूरी नही

दुनिया मनाती सिर्फ़ एक नववर्ष है

हमें दो मनाने से इंकार क्यों हो

दूसरों के त्यौहार मनाना बड़प्पन है

हम जग में सबसे उदार क्यों न हों।

धुँध और कोहरे से ठिठुरती पृथ्वी पर 

क्यों हर्ष और उल्लास का घोषण न हो

जब शीत ऋतु में लोहड़ी, संक्रांति मनाते हैं

तो पहली जनवरी पर परहेज क्यों हो

जब पंचांग यह हम सब ने स्वीकार्य किया

तो पौष में मस्ती की लहर क्यों न हो।

बसंत पर तो प्रकृति मेहरबान है

फूलों और त्यौहारों की भरमार है

तो ठिठुरती सर्द धरा पर हम

क्यों न कुछ गहमागहमी कर दें

सूने से इस प्रकृति के आंगन में

खुशहाली के सतरंगे बीज बो दें।

यह माना यह हमारी रीत नही

पर हम दकियानूसी क्यों बन के रहें

व्यवहार अपना बदल कर हम

जग के रंग में क्यों न शामिल होएँ।

इस नववर्ष पर ठंड से सिकुड़ती धरती पर

हम सौहार्द और आनंद का हल्ला बोल दें।

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

Advertisements

Forgiving

It’s that time of the year,

When you let bygones be and forgive.

But before I seek forgiveness from all,

I’ve to learn to myself forgive.

I have to master the art of forgiveness,

Before I grandiosely plan to forgive others.

So embarking on self-discovery is necessary,

Before I point fingers at others.

I forgive myself for being an ignoramus
But pretending otherwise.

And for tilting at imaginary windmills,

When I should have been wise.

I forgive myself for judging everyone,

For jumping to quick conclusions,

For at times playing the blame game,

And meaningless discussions.

I forgive myself for thinking I am always right,

As well as for trying to make others accept my point of view.

I also seek forgiveness for judging self too harshly

And for often biting more than I can chew.

I forgive myself for being stingy with compliments,

And for trespasses committed unknowingly,

For being tartly condescending,

Of those who are different from me.

I forgive myself for being at times

Arrogant, vain, smug and dismissive

As well as for occasional bouts of gluttony,

For being lazy and sometimes overtly submissive.

And as I enumerate all the reasons,

I should forgive myself for follies of mine,

I realise forgiving others is easy

To forgive self one has to be divine.

So, I leave the task of forgiving me

To all the people I know,

But since it’s Christmas time

I forgive all friends and foes.

कुछ नही बदलता

बदलता है रोज दमकता दिन, गहरी रात में,

अगली सुबह चमचमाता फिर आ जाता है।

काली स्याह रात पौ फटते ही लुप्त हो जाए,

अगली शाम फिर श्याम आँचल लहराती आती है।

कहते हैं सब, बदलाव आता है,

पर कुछ नही बदलता है।

बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापा,

बुढ़ापे से फिर हम बचपन में जाते हैं।

छोटे,सस्ते खिलौनों से खेलते-खेलते,

हम महंगे और बड़े खिलौनों से खेलने लग जातें हैं।

कहते हैं सब, बदलाव आता है,

पर कुछ नही बदलता है।

सरकारें आती हैं और चली जाती हैं सरकारें,

आम लोगों की तकलीफें जस की तस रह जातीं हैं।

देश को बदलने का नारा सब देते हैं,

पर आदतें अपनी बदलने से सब हिचकिचाते हैं।

कहते हैं सब, बदलाव आता है,

पर कुछ नही बदलता है।

जुल्म ढाने वाला जुल्म ढाता है,

सहने वाला सहता ही जाता है।

शायद कल कुछ बदल जाए

इस सोच में ही जीवन खत्म हो जाता है।

कहते हैं सब, बदलाव आता है,

पर कुछ नही बदलता है।

दूसरों को सलाह सब देते हैं,

सलाह दूसरों की कौन मानता है!

खुद को बदलने का वादा खुद से रोज होता है

खुद को बदलना इतना आसान कहाँ होता है।

कहते हैं सब, बदलाव आता है,

कुछ नही बदलता है ।

जो जैसा है, वैसा ही रहेगा यह मान के चलो,

अपनी विचारधारा में दूसरों को कौन ढाल सका है!

किसी के कहने पर कौन चलता है,

सत्य को स्वीकार करना ही श्रेयस्कर है।

यूँ लगता है, बदलाव आ रहा है,

पर सच तो यह है कुछ नही बदलता है।

Answers Within

I devour self-help books,

I attend self-improvement workshops.

Vipassana, meditation, yoga… I’m doing it all.

I follow my spiritual guru religiously 

I say my prayers regularly,

I perform all rituals unfailingly.

I have taken to planting trees,

As well as to feeding birds and ants.

I give freely to roadside beggars, 

I donate to charity whenever I can.

And yet the restlessness, the hollowness and

The emptiness refuse to go.

It is a huge void sucking my soul from within.

I look frenetically outwards to heal my scarred heart,

And in between the breaks I take,

I realise I am chasing a chimera.

I have to look within,

Confront myself, question myself,

Resolve personal issues,

Patch up my broken relations,

Accept that I am flawed,

Slay the past dragons,

Get rid of my complexes

And share it with anyone willing to lend a patient ear.

The answers I seek in the outside world,

Are all within me.

All I need is courage to face and accept them.

Brown

Does the colour of my skin bother you?

Does the hue of my skin define me?

Who decided fair is beautiful?

And dark is ugly?

If beauty is in the eye of the beholder,

Why don’t the eyes move beyond the complexion?

Does the shape of my eye,

My radiant smile amount to nothing?

I am brown,

In a country of brown skinned majority.

Yet, men and women alike

Have reminded me time and again

That my skin is of a tone,

That is found unacceptable by society.

I didn’t chose my colour.

I was born with it.

I care not what others think,

I grew up looking at it staring me from the mirror.

This is the colour I am most comfortable with.